स्लिम रहने के लिए इन बातो को ज़रा गौर से पढ़े | Diet Or Exercise For Weight Loss

 Diet Or Exercise For Weight Loss
Diet Or Exercise

Motapa Kam Karne Ke Upay-

आप इस बात को मानने से इकार नहीं कर सकती हैं कि साल के शुरू में ज्यादातर महिलाएं वजन कंट्रोल करने के जज्बे से भरी होती हैं । वह सिर्फ अपने मोटापे को कैसे काम करे इसी बात के बारे में सोचती है| फिर धीरे – धीरे कंट्रोल छूटने लगता है । मई के महीने में आइसक्रीम के लिए जी ललचाने लगता है, बरसात में पकौड़ों का दौर , त्योहारों में मीठे – नमकीन का स्वाद और फिर सरदियां आते – आते भरवां परांठों , हलवों और लड्ड – गजक की बेशुमार वेराइटी सही कहा न मैंने!! जी हां , जैसे जैसे वक्त बीतता है ।

स्लिम होने का जज्बा थोड़ा कमजोर पड़ जाता है । जनवरी से शुरू किया गया वेट लूज करने का प्रोग्राम साल के अंत तक टांय – टांय फिस्स ना हो जाए , इसके लिए स्वाद और सेहत के बीच बेहतर तालमेल बैठाने की जरूरत है ।

विशेष जानकारी: जिन लोगो को यह लगता है वजन कम करना बहुत आसान है और वह इसे आसानी से कम कर सकते है तो मैं यह बात उन्हें साफ़ तौर पर बताना चाहुगी की वजन घटाना एक लम्बी प्रकिर्या जिसे कई चङो में पूरा किया जाना होता है| इस हम वजन कम करने के लिए आप को इस ब्लॉग को कई भाग में लाएंगे जिससे आप वजन करने की प्रकिया को आसानी से समझ सके| हमारे सभी चङो को पड़ने के लिए आप हेल्थ section में फिटनेस और डाइट भाग पड़े आप को सभी जानकारिया मिल जाएगी धन्यवाद!!

यह मिथक है कि वजन को काबू में रखने के लिए 75 % एक्सरसाइज की जरूरत है और 25 % डाइट पर । फोकस करना जरूरी है । पर इसके उलट 75 % डाइट कंट्रोल और 25 % सरसाइज पर ध्यान दें , तो पूरा साल स्लिम रहन का वादा पूरा हा कता है ।

             यही सलाह देश – विदेश के कई शोधकर्ता अपने शोध के नतीजों में देते हैं । विश्वभर में वजन कम करने को ले कर किए गए । 50 से ज्यादा शोध यही संकेत देते हैं । को – फाउंडर ऑफ सोहो स्ट्रेंथ लैब और मिक्स न्यूट्रिशन के वरिष्ठ शोधकर्ता एलबर्ट मैथनी ने अपने शोध के नतीजों में पाया 5 शरीर से सिंगल पाउंड भी वजन कम करना है , तो 80 डाइट व 20 एक्सरसाइज ना रेशियो अपनाना होगा , तो वजन काबू में रहेगा । भारतीय न्यूट्रिशनिस्ट भी इस बात पर जोर देते हैं।

स्लिम रहने का एक्चुअल फंडा/Tips For Slim Belly:

how to be slim

स्लिम रहने के लिए इन् बातो को ज़रा गौर से पढ़े,
दिल्ली के ‘ जस्ट डाइट ‘ की डाइटीशियन जसलीन कौर के मुताबिक कुकिंग करते मय 3 चीजों का ख्याल रखें – कम तेल , कम चीनी और कम नमक । वजन कम करने के लिए एक्सरसाइज में कार्डियो की ओर ध्यान दें । कार्डियो का मतबल ट्रेडमिल नहीं , बल्कि ऐसे व्यायाम हैं , जिससे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन तेज होता है । कैलोरी कम होती है व चरबी घटती है ।

20 – 25 उम्र की युवतियों के लिए कार्डियो के लिए रस्सी कूदना , रनिंग और जॉगिंग सही है । जबकि 26 से 35 की साल की उम्र की महिलाओं के लिए सीढ़ियां जल्दी – जल्दी चढ़ना व उतरना , तेज रफ्तारवाला वॉक , साइकिलिंग और स्वीमिंग असरदार हैं । 35 से अधिक उम्र की महिलाओं के लिए सिर्फ तेज वॉक सही है ।

महिलाएं अपनी उम्र , पसंद और सहूलियत से कोई भी एक व्यायाम चुनें और उसे कम से कम 30 मिनट तक करें । कब , कितने बजे , कितना और क्या खाना है यह डाइटिंग का मूलमंत्र है । अगर इन बातों को ले कर सही निर्णय ले पाती हैं , तो तय है कि पेट के निचले हिस्से में चरबी चढ़ने की आशंका कम होगी ।

न्यूयॉर्क युनिवर्सिटी के हॉली लॉफ्टन एमडी , असिस्टेंट प्रोफेसर ऑफ मेडिसिन और डाइरेक्टर लोगों को वेटलॉस प्रोग्राम की सलाह देते हैं कि 500 से ले कर 700 कैलोरी को कम करने लिए 7 से 10 मील तक रनिंग की जरूरत होगी । काफी पसीना बहाने के बाद कैलोरी बर्न होगी । जबकि डाइट में अगर कैलोरी कंट्रोल किया जाए , तो इतनी ज्यादा मेहनत करने की जरूरत नहीं होती । औसत रूप से ज्यादातर लोग इस गणित को नहीं समझ पाते । वे कैलोरी लिए बिना मानते नहीं है यानी अपनी खाने – पीने की आदतें नहीं सुधारते ।

लोग गलत खानपान कायम रखते हैं , लेकिन साथ में मैराथन भी करते हैं , इससे कोई फायदा नहीं होता । बॉडी फैट हमेशा ज्यों का त्यों रहेगा । इसीलिए बेहतर होगा डाइट के माध्यम से कैलोरी को काबू कर लिया जाए , तो कसरत की कवायद कम करनी पड़ेगी । डाइट और एक्सरसाइज का सही संतुलन ही वजन कम करने का सही तरीका है ।

ब्रेकफास्ट और बेली फैट:

 Diet Or Exercise

Healthy Breakfast For Weight Loss In Hindi:

डिनर लेने के 12 घंटे के बाद जब आप अपना फास्ट तोड़ते हैं , तो सुबह का नाश्ता ऐसा होना चाहिए , जो लंच तक आपकी भूख को काबू में रखे । इसके लिए प्रोटीन युक्त ब्रेकफास्ट जरूरी है ।

अंडा आपके शरीर में लंबे समय तक एनर्जी का स्तर कायम रखता है। प्रोटीन होने की वजह से पाचन क्रिया धीमी रहती है और पेट भरा होने का अहसास रहता है । अंडे के पीले भाग में ऐसे एंटी ऑक्सीडेंट होते हैं , जो आंखों के लिए बढ़िया हैं ।

कोलीन नाम का पौष्टिक तत्व मस्तिष्क और लिवर के हेल्थ के लिए प्रभावकारी है । पूरा अंडा खाने पर शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है और अच्छे कोलेस्ट्रॉल की मात्रा बढ़ती है । हालांकि अंडे के पीले भाग में अच्छे और बुरे कोलेस्ट्रॉल का होना आज भी शोध का विषय है ।

रोज दो अंडे से ज्यादा ना खाएं । सिर्फ अंडे का वाइट ही ना खाएं , इससे अंडे के पीले भाग में मौजूद पौष्टिकता नहीं मिल पाएगी । पीले भाग में विटामिन डी और बी12 की मात्रा होती है , जो वजन कम करने में मदद करता है ।

शोध बताते हैं कि परांठों की तुलना में अंडा खानेवाले लोग जल्दी वजन कम करते हैं । चरबी का घेरा पेट और थाईज से कम होगा । वैसे अंडे के अलावा ब्लैक कॉफी भी स्लिम रखने में मददगार है ।

कैफीन पर हुए शोध बताते हैं कि इसे सुबह पीने से मेटाबॉलिक रेट बढ़ता है , फैट बर्न होता है । एक शोध के मुताबिक 100 एमजी कैफीन से हर दिन 79 – 150 कैलोरी बर्न होती है ।

कॉफी का एंटी ऑक्सीडेंट इन्फ्लेमेशन को कम करता है । डाइबिटीज की आशंका को कम करता है । एक कप कॉफी से दिन की शुरुआत आपके मूड को इंप्रूव करता है । और मेंटल परफॉर्मेंस और मेटाबॉलिज्म बढ़िया होती है ।

दिल्ली के न्यूट्री डाइट की क्लीनिकल न्यूट्रिशनिस्ट डॉ . शिखा शर्मा के मुताबिक इंडियन ब्रेकफास्ट में थोड़ी तब्दीली करने की जरूरत है । जो अनाज खाने के प्रेमी हैं , वे ओटमील ( जई ) से ब्रेकफास्ट की शुरुआत कर सकते हैं । इस अनाज में मौजूद हाई फाइबर की वजह से बहुत देर तक भूख नहीं लगती ।

स्लो रिलीज कार्बोहाइड्रेट की वजह से सुबह काम करने की क्षमता और कैलोरी बर्न करने की क्षमता ज्यादा बढ़ जाती है । इंसुलिन की मात्रा संतुलित रहती है । प्रोटीन युक्त ब्रेकफास्ट , हेल्दी फैट्स और क्वॉलिटी कार्ब खाने पर शरीर में ऊर्जा का स्तर बना रहता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *