महिलाओ के लिए सुबह की सैर है ज़रूरी, जाने क्यों? Benefits Of Morning Walk – Khoobsurat World

महिलाओ के लिए सुबह की सैर है ज़रूरी, जाने क्यों? Benefits Of Morning Walk

best time for morning walk

आप रोज़ वॉक (benefits of walking) करते हैं ? आप इस सवाल को पढ़ते ही तुरंत मन में हां कहेगे| लेकिन मैं आप से पुछु क्या आप सही तरीके से वॉक करती हैं, पूछने पर आप थोड़ा सा सोच में पड़ सकती हैं। दरअसल सच कहु तो वॉक हम सभी करते हैं, मैं भी करती हु.. पर इसका प्रभाव शरीर पर सही रूप से पड़ रहा है या नहीं, इस पर हमगौर नहीं करते|

वॉक कब करें ( what is the good time for walking) और कितनी देर करें, कैसे करें और क्यों करें बहुत सारी। बातें हैं , जिसे आप जान लें, तो वॉक करने का जोश दोगुना होगा और असर भी शरीर पर पूरा दिखेगा। Harvard Medical School द्वारा walking पर कराए एक शोध के मुताबिक 15 मिनट की तेज वॉक आपकी चॉकलेट खाने की तलब को रोकती है, आप को यकीन नहीं हो रहा हो गए पर यह सच है|

सिर्फ रोज़ सही तरह से चलने से Arthritis और Breast cancer जैसे खतरे कम होते हैं। इतना ही नहीं New Mexico highlands University में वर्ष 2017 में Chicago में हुई वार्षिक मीटिंग में पेश की गयी रिपोर्ट के मुताबिक वॉकिंग के दौरान मस्तिष्क में blood circulation सही होने से दिमाग सक्रिय रहता है। यानी आप की बुद्धि इससे बढ़ सकती है इस लिए वाक करने के बारे में ज़रा गौर फरमाए|

वॉकिंग के बहुत से फायदे देखते हुए Fortis hospital (Delhi) के वरिष्ठ Orthopedic और Joint replacement एक्सपर्ट डॉ. अमिते पंकज अग्रवाल के सलाह देते हैं। कि महिलाओं को विशेष तौर पर वॉक करनी चाहिए।

वॉकिंग कैसे करें?  कहां करें?  कब से करें? वॉकिंग से पहले और बाद में क्या करें? आइए जानें…

Benefits Of Walking Outside/सुबह की सैर सही है या शाम की..

सुबह की सैर और शाम की सैर में फर्क होता है। ख़ास तौर पर सुबह की सैर बहुत फायदेमंद है। पर्यावरण ही नहीं आपका मन भी फ्रेश होता है। अच्छे पार्को में किंग और जॉगिंग के ट्रैक अलग होते हैं। अगर आपके घर के आसपास पार्क में इस तरह की सुविधा नहीं है, तो आप ऐसी जगह वॉकिंग करें, जहां जमीन समतल हो , ऊबड़खाबड़ नहीं हो , कंकड़ – बजरी ना बिछी हो , ताकि आप तेज वॉकिंग का आनंद ले सकें| यह आप को ताज़गी और मन को शंट दोनों तरह का काम करेगी|

(Benefits of walking barefoot on wet grass) ऊबड़खाबड़ जमीन पर तेज वॉकिंग करने पर आपके पैर मुड़ने और एडियों में दर्द जैसी। समस्या हो सकती है। अगर आप नरम हरी घास पर वॉक करें, फायदा होगा। घर के आसपास किसी प्लेग्राउंड में जा सकती हैं| आप भीड-भाड वाले सडक पर सैर करने ना | इससे तेज वॉकिंग में रुकावट आएगी। और वाक करने में जैसा प्रभाव आना चाहिए, वैसा पूरी तरह से होगा नहीं| इस लिए कभी भी भीड़भाड़ जगह न जाएं|

यह थोड़ा मुश्किल है पर मॉर्निंग वाक के लिए कभी ग्रुप में ना जाएं । इससे आप की चाल तेज नहीं होगी और न ही मन को शांति मिलेगी।लेकिन यदि अकेले जाना नहीं हो पाए, तो एक या दो साथी के साथ जा सकती हैं। इससे वॉकिंग में आपकी रफ्तार तेज सकती है।

वाक कहा करना सही है:

benefits of walking with weights

वॉकिंग के लिए अगर सही जगह उपलब्ध नहीं है , तो आप ट्रेडमिल पर मध्यम गति से वॉक कर सकती हैं । इसमें जॉगिंग ना करें। चोट लगने की आशंका हो सकती है। आजकल कई एप भी मोबाइल पर उपलब्ध हैं , जो वॉकिंग और जॉगिंग को मॉनिटर करते हैं । आप चाहें , तो इसकी भी मदद ले सकती हैं । वॉकिंग करते समय आप अपनी पसंद का गाना मोबाइल पर भी सुन सकती हैं । इससे आपका उत्साह दोगुना होगा। आप खुशी के साथ अपना वर्कआउट कर पाएंगी ।

लोकप्रिय:

सही वॉकिंग कैसे करें: 

सबसे पहले यह देखें कि वॉकिंग आप किस लिए करना चाहती हैं ? बोरियत मिटाने के लिए यों ही टलहना चाहती हैं, तो ना तो कैलोरी बर्न होगी ना रक्तसंचार का शरीर पर पॉजिटिव प्रभाव पड़ेगा। अगर आप कैलोरी बर्न करने और स्लिम रहने के लिए वॉक करना चाहती हैं, तो तेज वॉक करने की जरूरत है। पर सच यह भी है कि अगर महिलाएं घर से बाहर निकल कर टहल रही हैं तो भी उनके लिए सिर्फ बैठे रहने की तुलना में फायदेमंद है। मध्यम कदम ले कर वॉक करें । छोटे कदम के साथ वॉक करने पर ना सिर्फ आपकी चाल में सुधार आएगा, बल्कि पोश्चर में भी सुधार आएगा । पैर के साथ कदमताल की तरह दोनों हाथों को बराबर हिलाते हुए वॉक करें। इससे कंधों और बांहों पर जमा फैट घटेगा। कंधे मजबूत होंगे।

वॉकिंग का एक तरीका का और भी है, जिसमें आप तेजी के साथ ठुमकते हुए चलते हैं और दोनों मुट्ठियां बंद होती हैं। पांच मिनट ब्रिस्क वॉक करें। लेकिन वॉक करते समय दोनों हाथ ऊपर ना करें। यह पोश्चर सही नहीं माना है। वॉकिंग और जॉगिंग वॉकिंग और जॉगिंग करना भी आपको स्लिम रखने में मदद रखता है। लेकिन 30 साल की उम्र के बाद जॉगिंग करने से बचें, क्योंकि इससे घुटने में चोट लगने की आशंका रहती है।

वाक का सही तरीका:

benefits of walking with weights in hindi

ब्रिस्क वॉकिंग 5 मिनट करें और 1 मिनट जॉगिंग करें। ऐसा 20 मिनट तक करें। अगर वॉकिंग को वॉर्मअप की तरह कर रही हैं , फिर जॉगिंग करना तय किया है, तो इसे शुरुआती दौर पर धीरे – धीरे बढ़ाएं। बड़ी उम्र में जॉगिंग करने पर घुटनों और एड़ियों में दर्द तो होगा ही, साथ में मांसपेशियों में ऐंठन भी हो सकती है। कई लोगों को इसी जॉगिंग के दर्द की वजह से स्लिप डिस्क की समस्या भी हो सकती है।जॉगिंग या वॉकिंग करने के लिए जाएं, तो चप्पल, फ्लैट फुटवेअर पहन कर नहीं, बल्कि वॉकिंग शू व जॉगिंग शू पहन कर वॉक या जॉग करें ।

अतिरिक्त सावधानियां वॉकिंग करने के बाद जरूरी है कि आप पानी की पर्याप्त मात्रा पिएं। अगर घुटने में दर्द नहीं है, तो जॉगिंग और वॉकिंग कर सकती हैं । इससे स्टेमिना बढ़ेगी। पांच मिनट के लिए तेज वॉक और 1 मिनट के लिए जॉगिंग शरीर से वसा को दूर करती है। कभी भी कैल्शियम की गोली या पाउच अपने आप खाना शुरू ना करें। जब तक आपको इसकी जरूरत ना हो या जब तक डॉक्टरी सलाह ना हो , ना लें । शरीर को जरूरत ना हो , तब भी अगर आप कैल्शियम की गोली लेंगी, तो शरीर में एक्स्ट्रा कैल्शियम डिपॉजिट होगा, जो शरीर के लिए सही नहीं है ।

सामान्य तौर पर दिन में 2 बार दूध पीना काफी है । अगर आपको कैल्शियम सप्लीमेंट लेना है , तो डॉक्टर से राय लें। आधा घंटा तेज वॉक करना पर्याप्त है। लेकिन वॉकिंग करने से पहले अपने बॉडी को वॉर्मअप करना ना भूलें। इससे आपको अंदरूनी चोट नहीं लगेगी|

वाक करने का सही समय/Best Time for morning Walk:

सुबह 5 से 7 के बीच में वॉक करने का सही समय है। उसके बाद अगर कोई योग या स्ट्रेचिंग करना चाहे , तो बढ़िया है। सुबह शरीर में रक्तसंचार तेज होने की वजह से दिमाग को भी पर्याप्त ऑक्सीजन मिलती है, जिससे आप पहले के मुकाबले काफी एक्टिव महसूस करते हैं| शाम को आपका मेटाबॉलिज्म काफी धीमा होता है, एक कप चाय के साथ आप सुस्ताना चाहती हैं, वॉकिंग के लिए हिम्मत नहीं जुटा पातीं। सुबह वॉक करने कर मौका ना मिले, तो शाम को भी वॉक कर सकती हैं। शरीर को धीरे – धीरे इस तरह की आदत हो जाएगी । शाम 6 से 7 . 30 के बीच किसी भी समय वॉक कर सकती हैं

निष्कर्ष:

तो यह रही वाक से जुडी कुछ ख़ास बातें जिससे आप की स्वस्थ को और भी ज्यादा बेहतर बनाया जा सकता है वाक करने से आप कई तरह की बीमारी से खुद को बचा सकती है महिलाओं के लिए वाक करना बहुत ज़रूरी माना जाता है| यह आप की स्वस्थ को दुरुस्त कर आप को कई तरह की रोगो से मुक्त करने में आप की मदद करेगा| वजन बढ़ने की समस्या और ह्रदये रोग से जुडी कोई भी समस्या को भी यह नियंत्रित करने में मददगार है| तो वक़्त निकाले और वाक पर ज़रूर जाये| और खुद को फिट रखने की हर मुमकिन कोशिश करे| इसी के साथ ही हमारे आज के इस ब्लॉग को शेयर ज़रूर करे और मुझे मेरे सभी सोशल साइट्स पर फॉलो करना न भूले जिसका लिंक आप को ऊपर मिल जायेगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *